द्वारा: आदित्य नाथ झा

बिल्कुल सही। बाकी सब कुछ गौण है। ब्लॉगिंग के लिए जुनून पहली और महत्वपूर्ण बात है! श्री कृष्ण ने कहा:
“कर्मण्य वाधिकरस्ते मा फलेषु कदाचन!”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top